केंद्र सरकार ने शुरू की ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ अभियान, जानिए क्या होगा इसमें खास? 

भारत सरकार द्वारा प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना के साथ ही  अब एक और नयी बीमा योजना की शुरुआत की है जिसमें किसानो के हित में नए दिशा में काम किया जायेगा. भारत सरकार आये दिन किसानो के लिए कोई न कोई नयी योजना की शुरुआत करती रहती है. वैसे आपको बता दें कि पीएम फसल बीमा  योजना को शुरू किये सात साल पूरे हो चुके हैं जिसके बाद से सरकार ने इस नयी योजना ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ को शुरू करने कि तैयारी कर ली है. 

देश के उन सभी किसानो को जमीं के रिकॉर्ड और नीति साथ ही पीएम फसल बीमा योजना के दावे और शिकायत निवारण प्रोसेस से जुड़ी सभी जानकारी को बताने के लिए भारत सरकार द्वारा  ‘ मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ योजना को डोर स्टेप शुरू करने का प्रयास किया है. इसे सभी राज्य कि सरकारों को शुरू करने का आदेश दे दिया गया है. इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य किसानो को भूमि और फसल बीमा से जुड़ी जानकारी से अवगत करवाना है. 

जानिए कब शुरू होने जा रहा ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ अभियान

बता दे कि आगामी फसल जो कि जून में शुरू होने जा रही है जिसे खरीफ सीजन की खरीफ की फैसले कही जाती हैं इस फसल के आने तक केंद्र सरकार के आदेश के बाद से सभी राज्य की सरकार अपने अपने राज्य में ‘मेरी पॉलिसी मेरे हाथ’ अभियान को घर घर जाकर शुरू किया जायेगा. 

2016 फरवरी में भारत सरकार द्वारा फसल बीमा योजना को शुरू किया गया था, जिसमें उन किसानों को वित्तीय सहायता राशि प्रदान की गयी  है जिनकी फसल किसी प्राकृतिक आपदा के कारण ख़राब हो गयी थी. वही जानकारी के अनुसार 2022 तक इस योजना के अंतर्गत 36 मिलियन से ज्यादा किसानों को पीएम फसल योजना के अंतर्गत बीमा कवर कर के दिया गया है.  इस योजना का मुख्य उद्देश्य छोटे सीमांत किसानों को लाभ पहुँचाना और उनकी आय दुगनी करने में मदद करना है जिससे की वह अपना जीवन यापन आसानी से कर सकें. 

केंद्र सरकार ने शुरू की 'मेरी पॉलिसी मेरे हाथ' अभियान, जानिए क्या होगा इसमें खास? 

पीएम फसल बीमा योजना की क्या है विशेषताएं?

अगर हम पीएम फसल बीमा योजना की विशेषताओं की बात करें तो इसमें राष्ट्रीय फसल बीमा योजना के साथ ही किसानों के लिए मोबाइल ऐप जिसपर किसान नामांकन कर सकते हैं, इसके साथ ही एक सब्सीडी रिलीज मॉड्यूल आदि और भी कई सुविधाएं इस योजना के अंतर्गत किसानों के लिए उपलब्ध करवाई गयी है.

किसानों को उनकी फसल का नुकसान होने के 72 घंटे के अंदर ही इसकी रिपोर्ट करवानी होगी जिससे की बीमा आसानी से कवर किया जा सकें. इसके साथ ही इसके लिए आप फसल बीमा ऐप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर अपने नज़दीकी सीएससी केंद्र में जाकर इलेक्ट्रॉनिक मशीन की मदद से हस्तांतरित दावा अपने लाभ का कर सकता है.  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *